EducationHealth

हाथ धोने के11 सही तरीके(hath dhone ka sahi tarike)

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाथ धोते समय बताए 11 चरणों का पालन करना बहुत महत्वपूर्ण है (हाथ धोने के11 सही तरीके(hath dhone kai 11 sahi tarike))ताकि कोरोना को फैलने से रोका जा सके। 20 सेकंड तक अपने हाथों को मलें: डब्ल्यूएचओ ने कहा कि हाथ धोते समय उन्हें 20 सेकंड तक अच्छे से मलें।

ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे (GHD)

ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे (जीएचडी)हमारे जीवन में बहुत कुछ करना बहुत जरूरी है। यदि ऐसा नहीं होता तो हम कई बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। जैसे हाथ धोना ये कोरोनावायरस महामारी के दौरान और भी महत्वपूर्ण हो गया था। 15 अक्टूबर को विश्व भर में हर साल ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे (जीएचडी), यानी विश्व हस्त प्रक्षालन दिवस मनाया जाता है, जिसमें लोगों को हाथ धोने की आवश्यकता और इसके लाभों के बारे में जानकारी दी जाती है। यह स्पष्ट है कि हम अपने हाथों से कई बीमारियों का शिकार होते हैं। कोरोना वायरस के अलावा भी कई बीमारियां हमें अपने हाथों से मार डालती हैं। ऐसे में हाथ धोना कितना महत्वपूर्ण है, इसे समझना महत्वपूर्ण है। तो चलिए इसके बारे में आपको बताते हैं हाथ धोने के11 सही तरीके (hath dhone kai 11 sahi tarike).

ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे (जीएचडी) एक अंतरराष्ट्रीय अभियान है जिसका उद्देश्य हाथ धोने को बढ़ावा देना है। इसका उद्देश्य दुनिया भर में लोगों को अपने हाथ धोने की आदतों को बदलने का आह्वान करना है। दैनिक धोने के दौरान और साबुन से धोने के बाद हाथ धोना बहुत महत्वपूर्ण है। 2008 था, जब ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पहली बार मनाया गया था। इस दिन का लक्ष्य बीमारियों और संक्रमणों को रोकने के लिए साबुन से हाथ धोने की आवश्यकता के बारे में लोगों को जागरूक करना है। इस खास दिन को मनाने के लिए सत्तर देशों में 120 मिलियन से अधिक बच्चों को साबुन से हाथ धोने का अभ्यास करने का आह्वान किया गया। आंदोलन ने सरकारों, स्कूलों, गैर-सरकारी संगठनों और निजी कंपनियों के समर्थन से गति पकड़ ली है।

वर्ल्ड हैंड हाइजीन डे

वर्ल्ड हैंड हाइजीन डे हर साल 5 मई को मनाया जाता है, ताकि लोगों को इसके महत्व के बारे में जागरुक किया जा सके। हमारे हाथों को हर दिन धोना हमारे स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। COVID-19 महामारी के कारण हाथ धोने का महत्व भी दस गुना बढ़ा है क्योंकि यह आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए अनिवार्य है। दैनिक जीवन में इसे शामिल करने से कई लोगों को वायरल संक्रमण और फ्लू से बचाया गया है।

हाथ धोने का मुख्य उद्देश्य

हाथ धोने का मुख्य उद्देश्य हाथों को रोगजनकों (जैसे वायरस, बैक्टीरिया या अन्य सूक्ष्मजीव) और रसायनों से मुक्त करना है जो हानिकारक हो सकते हैं। यह विशेष रूप से चिकित्सा क्षेत्र में काम करने वालों के लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन आम जनता के लिए भी महत्वपूर्ण है।

हाथ धोना क्यों आवश्यक है?
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि पानी, स्वच्छता और स्वच्छता की कमी से हर साल निम्न और मध्यम आय वाले देशों में 8,27,000 लोग मर जाते हैं।

पानी, स्वच्छता और स्वच्छता पर केंद्रित एक अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन वाटरएड के अनुसार, वैश्विक स्तर पर पांच में से केवल एक (19%) व्यक्ति शौच के बाद साबुन से हाथ धोता है। इसमें आगे कहा गया है कि पानी से संबंधित बीमारियों के कारण हर साल 443 मिलियन बच् चे स्कूल नहीं जाते। डायरिया से होने वाली लगभग 88% बचपन की मौतों का कारण स्वच्छता तक पहुंच की कम

यूनिसेफ ने कहा कि अपर्याप्त पानी, स्वच्छता और हैंड हाइजिन विश्व भर में कुपोषण के पाँचवें हिस्से हैं। इसमें आगे कहा गया है कि बच्चों को खाने से पहले या टॉयलेट जाने के बाद हाथ धोने का आसान-सा उपाय दस्त होने की संभावना को 40% से अधिक कम कर सकता है। UNICEF के अनुसार हाथ धोने से COVID-19 संक्रमण की संभावना 36% तक कम होती

डब्ल्यूएचओ और हेल्थ एक्सपर्ट ने कहा कि हाथ धोना सबसे आम तरीकों में से एक है जिसके माध्यम से रोगाणु एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक फैलने से रोका जा सकता है। WFH ने बताया कि सही तरीके से हाथ धोने की कमी से हर दिन दुनिया भर में हजारों लोग मर जाते हैं. इसलिए, हानिकारक कीटाणुओं से बचने और संक्रमण को रोकने का सबसे महत्वपूर्ण उपाय हाथ धोना है।

साथ ही, वैश्विक महामारी ने हमें बताया कि वायरस के प्रसार को रोकने का सबसे सस्ता, आसान और महत्वपूर्ण उपाय हाथ धोना है।

कब-कब हाथ धोना चाहिए:

नियमित रूप से हाथ धोना:

1.पकाने और खाने से पहले

2.किसी बीमार या घायल व्यक्ति का इलाज करते समय

3.कॉन्टेक्ट लेन्स पहनने और उतारने के दौरान

4.टॉयलेट के बाद

5.जब आप खांसें, छींकें या कुछ भी करें, तो अपने हाथों को जरूर धोएं।

6.किसी भी केमिकल के उपयोग के बाद

7.पालतू जानवर से खेलने के बाद
8.एक बीमार व्यक्ति से मिलने के बाद

नियमित रूप से हाथ धोने का महत्व क्यों है? दस प्रमाण और कारण निम्नलिखित हैं:

यह संक्रामक रोगों के प्रसार को रोकता है, जैसे गैस्ट्रोएंटेराइटिस और डायरिया, सामान्य सर्दी, फ्लू, त्वचा संक्रमण और परजीवी संक्रमण।
यह आपके हाथों को स्वच्छ रखने में मदद करता है और फंगल संक्रमण को रोकता है।
बैक्टीरिया आपके हाथों में कुछ घंटों तक जीवित रह सकते हैं, लेकिन साबुन से धोना बैक्टीरिया को आपके हाथों से बाहर निकालता है।
हम हजारों बैक्टीरिया वाले शौचालय या कार्यालय के दरवाजे खोलते या बंद करते हैं।
हम हर दिन अपने मोबाइल से संपर्क करते हैं, जिसमें 7000 अलग-अलग बैक्टीरिया होते हैं।
हम अपने कंप्यूटर और कीबोर्ड को अक्सर उपयोग करते हैं, जिसमें सबसे अधिक बैक्टीरिया हैं। नवीनतम अध्ययन के अनुसार, यह टॉयलेट सीट की तुलना में अधिक घातक हो सकता है।
ठीक से हाथ धोने से बैक्टीरिया को फैलने से रोक सकते हैं; क्योंकि हमारे हाथ बैक्टीरिया के लिए सर्वोत्तम स्थान हैं
हम हर दिन सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करते हैं, जो विभिन्न बैक्टीरिया और वायरस के लिए सबसे अच्छा स्थान है।
जीवाणुओं में दो परतें हैं: Transient flora हाथ धोने के बाद निकलने वाली शीर्ष परत है।
यह संक्रामक सूक्ष्मजीवों से आपके नाखूनों को बचाता है।

हाथ धोने की भूमिका क्या है?

  1. वाटरएड के अनुसार, हाथ की स्वच्छता की कमी और पानी से संबंधित बीमारियों के कारण हर साल दुनिया भर में 443 मिलियन स्कूल दिन छूट जाते हैं।
  2. नैशनल हेल्थ मिशन के अनुसार, दस्त की वजह से भारत में हर साल करीब एक लाख बच्चे मर जाते हैं। UNICEF की रिपोर्ट के अनुसार, हाथों को स्वच्छ रखने से ४० प्रतिशत कम हो सकता है।
  3. 29-57% तक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं वाले लोगों की संख्या कम हो सकती है।
  4. प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर व्यक्तियों को कम कर सकता है।

हाथो को कितनी देर धोना चाहिए

हाथों को साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकेंड के लिए धोना चाहिए। विशेष रूप से टॉयलेट पीने के बाद, खाना खाने से पहले, छींकने या खांसने के बाद या जब भी हाथ गंदे लगते हैं

हाथ धोना क्या है?

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप जीवन भर स्वस्थ रहें, इसके लिए बचपन से ही स्वच्छता की आदत बनाना महत्वपूर्ण हो जाता है। कीटाणुओं को दूर करने के लिए इन कदमों का पालन करें:

  • हाथों को पानी से गीला करें।
  • साबुन को हाथों पर अच्छी तरह रगड़कर झाग बना लें।
  • फिर दो घंटे तक हाथ साफ करें। नाखूनों के अंदर, कलाई, उंगलियों के बीच और हाथों के पीछे भी स्क्रब करें।
  • पानी से धो लें।
  • साफ तौलिए से हाथ धोकर सुखाएं।
  • अगर आपके पास पानी और साबुन से हाथ धोने का विकल्प है, तो सेनिटाइज़र दोनों का इस्तेमाल करे

हाथ धोने के11 सही तरीके(hath dhone kai 11 sahi tarike)

अपने ग्यारह चरणों वाले गाइड में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने साबुन और पानी से हाथ धोने की सलाह दी है:

हाथ धोने के11 सही तरीके(hath dhone kai 11 sahi tarike)

चरण एक: हाथों को पानी से धोएं
चरण दो: हाथों पर पर्याप्त साबुन लगाएं
चरण तीन: एक हाथ की हथेली को दूसरे हाथ की हथेली से मिलाकर रगड़ें।
चरण चार: बाएं हाथ की दाहिनी हथेली और इसके विपरीत
चरण पांच: अंगुलियां आपस में जुड़ी हुई हथेलियों से
चरण छह: अंगुलियों के पीछेअंगुलियों पर

चरण सात: दोनों अंगूठे को रगड़ें।
चरण आठ:ठीक से हर हथेली

चरण नौ:पानी से धोलें

चरण दस :एक साफ तौलिये से सुखाएं

चरण ग्यारह : नल को बंद करने के लिए तौलिये का प्रयोग करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

INS Vikrant Exploring Education and Research at FRI Dehradun India’s defence export 2023 Symptoms of Hormonal Imbalance in Women Immunity Boosting Drinks – Easy HomeMade Kadhai Paneer Recipe 7 BEST STREET FOOD OF HARIDWAR THAT ARE WORTH A TRY TOP TRADING APPS English Grammar- 10 Best Ways To Learn Mastering Healthy Drink-Beetroot Juice Recipe